भ्रष्टाचार के चलते ‘48’ गायों की भूक और प्यास से दर्दनाक मौत..!

(ए.ख़ान) 

नई दिल्ली:  गौरक्षों के नाम पर लोगों की हत्याओं की खबरों के बीच दिल्ली में एक ऐसी घटना हुई है जो आपका दिल दहला सकती है, आपको शर्मशार कर सकती है। दिल्ली के धूमनहेड़ा स्थित एक गौशाला में खाने की कमी और बीमारियों की वजह से कम से कम 48 गायों की दर्दनाक मौत हो गई। अब तक 36 गायों के मरने की ख़बरें मिल रही थी। गायों के मरने के बाद भी गौशाला में कई दिनों तक उनका शव पड़ा रहा। मीडिया में ख़बरें आने के बाद एमसीडी की टीम गायों के शवों को उठाने पहुंची। केजरीवाल सरकार ने गौशाला में डॉक्टरों की टीम भेजी और एमसीडी के सफाई कर्मचारी मौके पर तैनात दिखे। खाने-पीने के लिए खल-चारा मंगाया गया। गाँव वाली की माने तो उनका कहना कि अगर गौशाला में भ्रष्टाचार नहीं हुआ होता, साफ- सफाई और खाने पीने का ध्यान रखा गया होता तो आज गौ-माताओं की यह तस्वीर देखने को नहीं मिलती।

आपको बता दें कि गौशाला के सूत्रों के अनुसार गौशाला की देख रेख करने वालों के बीच काफ़ी समय से विवाद चल रहा है। आश्रम की देख-रेख की ज़िम्मेदारी गुरु छाया नाम की महिला पर थी जिस पर आरोप  है कि वो गौमाताओं के लिए मिल रहे पैसे का ग़बन करती है। 2015 से अश्रम की देखभाल कर रहे श्यामा ने भी कहा कि गांववालों से विवाद बढ़ने के बाद उन्होंने आश्रम की देखभाल बीते 15 जुलाई को ही छोड़ दी थी। इतनी बड़ी संख्या में गायों की मौत ऐसे समय में हुई है जब हाल ही में गोरक्षा के नाम पर राजस्थान के अलवर में रकबर खान को कथित तौर पर गौरक्षको द्वारा पीटा गया और पुलिस की देखरेख में हत्या कर दी गई थी। इस मामले में पुलिस भी सवालों के घेरे में है। देश में 2017 से लेकर अब तक गो-रक्षा के नाम पर 34 लोगों की गौरक्षों द्वारा पीट-पीटकर हत्या हो चुकी है और 69 केस दर्ज किये गये हैं।

Share link of aam awaz

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *